breaking news New

देश में स्वाइन फ्लू का कहर : अब तक 127 की मौत, सरकार ने दिए जांच के आदेश

देश में स्वाइन फ्लू  का कहर : अब तक 127 की मौत, सरकार ने दिए जांच के आदेश

राजस्थान में स्वाइन फ्लू से मौतों का सिलसिला जारी है। यहां स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 85 तक पहुंच गई है। यह संख्या देश में सर्वाधिक है। वहीं 2300 से ज्यादा पॉजिटिव केस सामने आए हैं। यहां रविवार को भी एक की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई। स्वाइन फ्लू से गुजरात में अब तक 28 और दिल्ली में 12 की मौत हो चुकी है। हरियाणा में भी स्वाइन फ्लू से मौतों की बात सामने आई है। रविवार को पंजाब में भी स्वाइन फ्लू से दो की मौत हो गई।


राज्य के चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने संबंधित अधिकारियों को पूरी तरह से मॉनिटरिंग करने के लिए कहा है। इधर, मादा एनिफिलिज मच्छर के काटने से मलेरिया, एडीज एजिप्टाई मच्छर से डेंगू व माइट या पिस्सू के काटने से स्क्रब टाइफस जैसी बीमारी के मामले भी बेमौसम में आने से विभाग की गंभीर लापरवाही सामने आ रही है।

हिमाचल प्रदेश में स्वाइन फ्लू का वायरस जानलेवा साबित हो रहा है. पूरा प्रदेश सहम सा गया है. स्वाइन फ्लू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी में रोजाना पांच से सात मरीजों में स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए जा रहे हैं. यह देखकर अस्पताल प्रशासन भी सकते में आ गया है. अस्पताल में इस साल अब तक 154 मामले पहुंचे हैं जिनमें 49 मरीजों में स्वाइन फ्लू के लक्षण पॉजिटिव पाए गए हैं. अस्पताल में विभिन्न आयु वर्ग के पांच मरीजों की मौत हो चुकी है. स्वाइन फ्लू के अधिकतर मामले शिमला, सोलन, कुल्लू, मंडी बिलासपुर और हमीरपुर से आ रहे हैं. अभी आईजीएमसी में 17 मरीजों का अस्पताल में उपचार चल रहा है.


आईजीएमसी के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. जनक राज ने बताया कि स्वाइन फ्लू से बचने के लिए अस्पताल प्रशासन अस्पताल परिसर में बैनर लगाकर लोगों को जागरुक कर रहा है. इसके साथ ही मीडिया के जरिए से भी लोगों को सचेत किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि इस वायरस से बचने के लिए लोगों को खुद ही स्वच्छता को लेकर अतिरिक्त चौकसी बरतनी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि अस्पताल में आने वाले स्वाइन फ्लू के मरीजों और तीमारदारों को टेमीफ्लू दवा भी जारी कर दी है