breaking news New

नागरिकता संशोधन कानून सीएए है एक अंधा कानून, यह देश को बांटने वाला कानून : भूपेश बघेल

नागरिकता संशोधन कानून सीएए है एक अंधा कानून, यह देश को बांटने वाला कानून : भूपेश बघेल

रायपुर/भिलाई| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एनआरसी (NRC)और सीएए (CAA)का विरोध करते हुए भिलाई में सोमवार को संविधान बचाओ रैली को संबोधित किया। सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी की नीतियों को आड़े हाथ लेते हुए जमकर हमला बोला। उन्होंने रैली में कहा कि इस देश का दुर्भाग्य है कि हम हिंदुस्तानी है ये आज प्रमाणित करने के लिए लड़ाई लडऩी पड़ रही है। नागरिकता संशोधन कानून सीएए एक अंधा कानून है। यह देश को बांटने वाला कानून है। सीएए और एनआरसी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। केंद्र सरकार लोगों को गुमराह कर रही है। हम भारत सरकार के साथ हैं लेकिन एनआरसी के साथ नहीं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि हमारे देश में अब चार साल के बच्चों को भी प्रमाणित करना पड़ेगा वो हिंदुस्तानी हंै। अगर बच्चा प्रमाणित हो गया और मां बाप प्रमाणित नहीं हुए तो वो किस देश के नागरिक कहलाएंगे। केंद्र सरकार क्या इस बात का जवाब दे पाएगी। लोगों से झूठ पर झूठ बोला जा रहा है। देश में आग लगाने का काम भारतीय जनता पार्टी और केंद्र सरकार कर रही है। आज देश जल रहा है इसके जिम्मेदार प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं। इससे कांग्रेस का कोई लेना देना नहीं है। देश के सामने आज बड़ी समस्या बेरोजगारी,मंदी, मंहगाई की है। उद्योगों के पहिए थमे गए हैं। मोदी सरकार बताए देश से भुखमरी और गरीबी को कैसे दूर करेंगे। मूलभूत समस्याओं से ध्यान भटकाने के लिए यह देश में एनआरसी और सीएए के रूप में एजेंडा फैलाया जा रहा है। देशभर में चल रहे बवाल के बीच सीएम ने भिलाई सेक्टर 7 से संविधान बचाओ रैली का सोमवार को आगाज किया। इस दौरान राज्य सरकार के तमाम बड़े मंत्री, कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे। रैली में कृषि मंत्री रवींद्र चौबे भीड़ के बीच में अपने हाथ में हम भारत के लोग लिखी तख्ती हाथ में थामे दिखे। रैली में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अलावा गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवींद्र चौब, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम, कैबिनेट मंत्री मोहम्मद अकबर, विधायक सत्यनारायण शर्मा, विधायक अरूण वोरा सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी जुटे।