breaking news New

Ratan Tata को इनसे है खास लगाव, इंजीनियर ने साझा की रोचक स्टोरी

Ratan Tata को इनसे है खास लगाव, इंजीनियर ने साझा की रोचक स्टोरी

नई दिल्ली: वरिष्ठ उद्योगपति रतन टाटा (Ratan Tata) सोमवार को 83 वर्ष के हो गये. इस मौके पर एक युवक ने रतन टाटा के साथ जीवन का लघु वृत्तांत पब्लिश किया है. इसमें दिग्गज उद्यमी के जीवन के अनछुए पहलुओं की चर्चा की गई है. हार्पर कॉलिन्स इंडिया द्वारा प्रकाशित पुस्तक में टाटा को लेकर बेहद दिलचस्प लघु वृत्तांत छपा है.

इंजीनियर का कुत्तों से लगाव रतन टाटा को  भाया

लेखक शांतनु नायडू की पुस्तक ‘आय केम अपॉन अ लाइटहाउस’ में रतन टाटा  ने एक नोट लिखा है. इस नोट में लेखक और टाटा की बेघर, भूखे, बीमार और परित्यक्त कुत्तों व बिल्लियों के कल्याण की साझी चिंता का पता चलती है. इसी वजह ने लेखक और टाटा को आपस में मिलवाया. पेशे से व्हीकल डिजाइन इंजीनियर नायडू ने 20 वर्ष की उम्र में एक Innovative solution विकसित किया, जो गली के कुत्तों को तेज गति से चलने वाली कारों के नीच आने से बचाने में कारगर है. टाटा भी गली के कुत्तों के प्रति सहानुभूति रखते हैं. उन्होंने नायडू के समाधान का संज्ञान लिया. टाटा इससे इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने न सिर्फ नायडू के उपक्रम में निवेश करने का निर्णय लिया, बल्कि समय के साथ वह नायडू के अभिभावक, बॉस व मित्र सरीखे बनते चले गये. 

क्या लिखा है टाटा ने

टाटा (Ratan Tata) ने लिखा, ‘वह (नायडू) और उसके कुछ दोस्त पुणे में एक छोटे से स्टार्टअप के माध्यम से गली के कुत्तों के भोजन, देखभाल और इन बेचारे जानवरों के लिये घर खोज रहे थे. उन्होंने कुत्तों के लिये एक कॉलर बनाया. जानवरों के प्रति करुणा के चलते उसे पहचान मिली. कुत्तों के प्रति मेरे प्यार को जानते हुए उन्होंने मेरे कार्यालय को पत्र लिखा. उन्हें प्रतिक्रिया की उम्मीद भी नहीं थी. शांतनु और कॉलेज के बच्चों ने अपने व्यक्तिगत समय और संसाधनों को निवेश कर जो किया, उससे मैं प्रभावित हुआ. मैंने उनके स्टार्टअप में निवेश करने का फैसला किया. इससे उन्हें न केवल समर्थन मिला, बल्कि व्यक्तिगत भागीदारी के माध्यम से इसे बढ़ाने के लिये प्रोत्साहन भी मिला.’

Latest Videos