breaking news New

शारदा घोटाला / पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से 8 घंटे पूछताछ, सीबीआई ने तृणमूल सांसद को भी तलब किया

शारदा घोटाला / पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से 8 घंटे पूछताछ, सीबीआई ने तृणमूल सांसद को भी तलब किया

बंगाल के शारदा घोटाले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से सीबीआई अफसरों ने शिलॉन्ग में शनिवार को 8 घंटे पूछताछ की। रविवार को भी उनसे जानकारी जुटाई जाएगी। जांच एजेंसी ने तृणमूल सांसद कुनाल घोष को पूछताछ के लिए बुलाया है। कुमार पर घोटाले के सबूतों को नष्ट करने का आरोप है। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जांच में सीबीआई का सहयोग करने का आदेश दिया था।

 

सीबीआई के मुताबिक, ''राजीव कुमार पश्चिम बंगाल कैडर के तीन अन्य आईपीएस अधिकारियों और अपने छोटे भाई के साथ शुक्रवार शाम ही कोलकाता से मेघालय की राजधानी शिलाॅन्ग पहुंच गए थे। रविवार सुबह 11 से शाम 8 बजे तक कुमार जांच एजेंसी के दफ्तर में रहे।''

 

पूछताछ से पहले नागेश्वर राव के ठिकानों पर छापे

 

घोटाले की जांच के लिए बनी एसआईटी के प्रमुख थे कुमार
शारदा घोटाले की जांच के लिए 2013 में एसआईटी बनाई गई थी। इसका नेतृत्व 1989 बैच के आईपीएस राजीव कुमार कर रहे थे। 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच का जिम्मा सीबीआई को दिया था। इसके बाद राजीव कुमार को जनवरी 2016 में कोलकाता पुलिस का मुखिया बनाया गया था।

राजीव कुमार से पूछताछ से पहले शुक्रवार को कोलकाता पुलिस ने बेहिसाब संपत्ति के मामले में सीबीआई के पूर्व अंतरिम चीफ नागेश्वर राव के ठिकानों पर छापे मारे। पुलिस ने जिन दो जगहों पर छापे मारे, उनमें से एक कोलकाता में है और दूसरी साल्ट लेक स्थित एंजेला मर्केंटाइल प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का दफ्तर है। यह कंपनी राव की पत्नी की बताई जा रही है। हालांकि, राव ने कहा कि ये कार्रवाई प्रोपेगेंडा के तहत की गई। कंपनी से मेरा कोई संबंध नहीं है। यह कंपनी उनके एक पारिवारिक मित्र की है।

 

3 फरवरी को पूछताछ नहीं कर पाई थी सीबीआई

सीबीआई की टीम पूछताछ के लिए 3 फरवरी को राजीव कुमार के घर पहुंची थी, लेकिन उसे अंदर नहीं जाने दिया गया। उलटा सीबीआई अफसरों को ही पुलिस जबरन थाने ले गई। इस दौरान ममता ने सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में धरना शुरू कर दिया था। इस मामले में सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने और ईमानदारी से जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया था। हालांकि, कोर्ट ने साफ कर दिया था कि कुमार को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा।

2460 करोड़ का शारदा चिटफंड घोटाला

शारदा ग्रुप से जुड़े पश्चिम बंगाल के कथित चिटफंड घोटाले के 2,460 करोड़ रुपए तक का होने का अनुमान है। पश्चिम बंगाल पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि 80 फीसदी जमाकर्ताओं के पैसे का भुगतान किया जाना बाकी है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक, शारदा ग्रुप की चार कंपनियों का इस्तेमाल तीन स्कीमों के जरिए पैसा इधर-उधर करने में किया गया। ये तीन स्कीम थीं- फिक्स्ड डिपॉजिट, रिकरिंग डिपॉजिट और मंथली इनकम डिपॉजिट।