breaking news New

बुधवार से फिर सख्त LOCKDOWN का ऐलान…. अब मिला नए किस्म का कोरोना वायरस…

बुधवार से फिर सख्त LOCKDOWN का ऐलान…. अब मिला नए किस्म का कोरोना वायरस…

लंदन. ब्रिटेन (UK) में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मामलों के पीछे कोविड-19 (New Type of Covid-19) के एक नए टाइप को जिम्मेदार माना गया है. कोरोना वायरस का ये नया टाइप ही ब्रिटेन और यूरोप के कई अन्य देशों में फिर से कोरोना के नए केसों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार है. कोरोना वायरस के एक नए प्रकार की पहचान होने के चलते फिलहाल लंदन और इसके आसपास के इलाकों में बुधवार से सख्त लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है.

स्वास्थ्य मंत्री मैट हैंकॉक ने हाउस ऑफ कॉमन्स में सांसदों को बताया कि इन इलाकों में केवल सात दिन में इस घातक वायरस संक्रमण के मामले दोगुने की दर से बढ़ रहे हैं इसलिए तत्काल और निर्णायक कदम उठाने की आवश्यकता थी. ऐसे में लंदन और इसके आसपास के इलाकों में ‘टीयर-3’ स्तर के प्रतिबंध लागू किए जाएंगे, जिसका मतलब लगभग पूर्ण लॉकडाउन से है.

हैंकॉक ने कहा, ‘ ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार की पहचान हुई है जोकि दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड में वायरस के तेज प्रसार का कारण हो सकता है.’ उन्होंने कहा कि इस नए प्रकार से संबंधित करीब 1000 मामलों की पहचान विशेषज्ञों ने की है.

मेडिकल कर्मी शुरू करेंगे कोविड-19 टीकाकरण अभियान
बता दें कि ब्रिटेन में स्वास्थ्य केंद्रों को सोमवार को कोविड-19 से मुकाबला करने वाले फाइजर/बायोएनटेक के टीके की पहली खेप मिलनी शुरू हो गयी और इस सप्ताह से टीका लगाना शुरू किया जाएगा. इससे पहले बुजुर्ग और अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं के जोखिम वाले समूहों का टीकाकरण किया जा रहा है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के अनुसार देश में 100 से अधिक ऐसे केंद्रों पर टीके की आपूर्ति की जा रही है जिनमें से कुछ सोमवार को ही अपने टीकाकरण अभियान को शुरू कर रहे हैं. बाकी मंगलवार को टीकाकरण शुरू करेंगे.

एनएचएस की प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल निदेशक डॉ निक्की कनानी ने कहा, ‘जनरल प्रेक्टिशनर्स, नर्स, फार्मासिस्ट और अन्य प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल कर्मी कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के अभियान में शामिल होने को उत्सुक हैं.’ उन्होंने कहा कि यह एनएचएस द्वारा चलाये जाने वाला अब तक का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम होगा.

अमेरिकी इतिहास में सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू
उधर अमेरिकी इतिहास में सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान सोमवार को शुरू हुआ. दवा कंपनी फाइजर और जर्मनी की उसकी सहायक कंपनी बायोएनटेक द्वारा विकसित कोविड-19 का टीका स्वास्थ्यकर्मियों को दिया जाना आरंभ हो गया है. कोरोना वायरस से अमेरिका में अब तक तीन लाख लोगों की मौत हो चुकी है और सबसे ज्यादा संक्रमण के मामले आए हैं.

न्यूयॉर्क सिटी में एक नर्स को सोमवार सुबह फाइजर-बायोएनटेक की पहली खुराक दी गयी. न्यूयॉर्क के लॉन्ग आइलैंड जेविश मेडिकल सेंटर में गहन चिकित्सा इकाई की नर्स सैंड्रा लिंडसे ने बताया, ‘आज मुझे उम्मीद नजर आ रही है.’ राज्य के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने लाइवस्ट्रीम से टीकाकरण अभियान पर नजर बनाए रखी.

फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बौरला ने कहा कि टीका लेने वाले पहले कुछ लोगों में वह भी शामिल होंगे. उन्होंने कहा, ‘अगर टीका बनाने वाली कंपनी का सीईओ इसे लेगा तो लोगों का टीका में भरोसा बढ़ेगा.’ मिशिगन में फाइजर के निर्माण संयंत्र से रविवार को कोविड-19 टीके की पहली खेप लेकर एक ट्रक निकला था. अमेरिकी औषधि नियामक ने टीका इस्तेमाल के लिए शुक्रवार को मंजूरी दे दी थी. अगले सप्ताह तक कुल 636 अस्पतालों और क्लीनिकों में टीके की खुराक पहुंचायी जाएगी.




Latest Videos