breaking news New

फास्टैग / टोल नाका के आसपास रहने वालों का कार्ड साॅफ्टवेयर से लिंक होगा, माह में एक बार ही चुकाना होगा चार्ज

फास्टैग / टोल नाका के आसपास रहने वालों का कार्ड साॅफ्टवेयर से लिंक होगा, माह में एक बार ही चुकाना होगा चार्ज

  • एनएचएआई ने 15 दिसंबर से टोल पर फास्टैग लागू करने की तैयारी पूरी की
  • अभी टोल नाका के आसपास के गांवों में रहने वाले लोगों का मासिक पास बनता है

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2019, 04:07 AM IST

नई दिल्ली. टाेल नाका के आसपास गांवाें में रहने वाले लाेगों को दिया गया फास्टैग सॉफ्टवेयर से लिंक रहेगा, जिससे उन्हें महीने में एक बार ही चार्ज चुकाना होगा। इसके लिए उन्हें संबंधित टोल के क्षेत्रीय कार्यालय जाकर फास्टैग को साॅफ्टवेयर से लिंक कराना अनिवार्य होगा। सॉफ्टवेयर में यह विकल्प मौजूद है।

नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने 15 दिसंबर से टोल पर फास्टैग लागू करने की तैयारी पूरी कर ली है। अभी टोल नाका के आसपास के गांवों में रहने वाले लोगों का मासिक पास बनता है। इसके चार्ज दो से तीन सौ रुपए हैं। टोल संचालन करने वाली कंपनियां छूट देने के लिए टोल से गांवों की दूरी तय करती हैं। इन्हीं को छूट दी जाती है। मसलन अगर कंपनी ने टोल नाका से 10 किमी. की दूरी तय कर रखी है, तो इसी सीमा के गांवों में रहने वाले लोगों का मासिक पास बनाया जाता है। लेकिन फास्टैग शुरू होने के बाद यह सभी वाहनों के लिए अनिवार्य होगा।