breaking news New

संवैधानिक प्रावधानों का लाभ दिलाने संगठित होकर कार्य करें: राज्यपाल सुश्री उइके

संवैधानिक प्रावधानों का लाभ दिलाने संगठित होकर कार्य करें: राज्यपाल सुश्री उइके

रायपुर| राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने कहा है कि आदिवासी वर्ग के विकास हेतु संविधान में किए गए विभिन्न प्रावधानों का लाभ समाज के अंतिम छोर के व्यक्तियों तक पहुंचाने में आदिवासी समाज के सभी अधिकारी और कर्मचारी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। राज्यपाल सुश्री उइके ने यह विचार आज यहां राजभवन में छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवा विकास संघ रायपुर के प्रांताध्यक्ष श्री आर.एन. ध्रुव के नेतृत्व में आए प्रतिनिधि मंडल की समस्याएं सुनते हुए व्यक्त की। राज्यपाल ने प्रतिनिधि मंडल की समस्याओं को गंभीरता से सुना और यथासंभव उनका निराकरण करने की बात कही। राज्यपाल सुश्री उइके ने प्रतिनिधि मंडल से कहा है कि वे समाज के जागरूक व्यक्ति हैं, इसलिए आदिवासी समाज के कमजोर वर्ग के लोगों को संविधान में किए गए प्रावधानों और शासन की योजनाओं का लाभ दिलाने के प्रति उनकी जिम्मेदारी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज के हित में वे संगठित होकर कार्य करें। सुश्री उइके ने कहा के आदिवासी वर्ग के अधिकारियों और कर्मचारियों में यह भावना होनी चाहिए कि वे अपने समाज के कमजोर वर्गों के विकास के लिए कार्य करने के अवसर को अपना सौभाग्य समझें। उन्होंने कहा कि वे केवल ज्ञापन सौंप कर अपने कर्तव्यों का इतिश्री न समझें बल्कि उन समस्याओं के निराकरण के लिए सतत प्रयास करते रहें और संबंधित अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों को बीच-बीच में याद दिलाते रहें। राज्यपाल सुश्री उइके ने कहा कि आदिवासी समाज की समस्याओं को आदिवासी मंत्रणा परिषद के सदस्यों के ध्यान में भी लाएं ताकि मंत्रणा परिषद की बैठक में उन पर आवाज उठाई जा सके। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के भी ध्यान में लाएं। उन्होंने प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों से कहा कि अनुसूचित जनजाति वर्ग के ऐसे वरिष्ठ अधिकारी और कर्मचारी जिनकी पदोन्नति नहीं हुई हो और कनिष्ठ वर्ग के लोगों की पदोन्नति हो गई हो ऐसे प्रकरणों की उन्हें जानकारी देवें। राज्यपाल ने बताया कि विभिन्न प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों द्वारा ध्यान में लाई गई अनेक समस्याओं को वे मुख्यमंत्री सहित वरिष्ठ अधिकारियों के ध्यान में लाए हैं। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा इस संबंध में कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए हैं। इस मौके पर छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति सेवक विकास संघ रायपुर के प्रांताध्यक्ष श्री आर.एन. ध्रुव ने आदिवासी समाज की विभिन्न समस्याओं की ओर राज्यपाल का ध्यान आकृष्ट किया। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव श्री सुरेन्द्र कुमार जायसवाल, राजभवन के कन्ट्रोलर श्री हरवंश सिंह मिरी और छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ के सभी 27 जिलों के जिलाध्यक्ष और महासचिव उपस्थित थे।