breaking news New

गणतंत्र दिवस पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी नयी सौगात : जाने बड़ी घोषणाएँ

गणतंत्र दिवस पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी नयी सौगात : जाने बड़ी घोषणाएँ

Raipur News- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार सुबह राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड में राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस मुख्य समारोह में ध्वजारोहण किया. ध्वजारोहण के बाद मुख्यमंत्री ने परेड की सलामी ली. अपने संबोधन की शुरुआत सीएम ने छत्तीसढ़ी में की. संबोधन के दौरान उन्होंने किसानों के लिए एक बड़ी घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने किसानों की सिंचाई की बकाया राशि को माफ करने का एलान किया है. साथ ही कृषि विभाग का नाम बदला का भी घोषणा सीएम भूपेश बघेल ने की है. हालांकि रायपुर में बारिश के चलते सांस्कृतिक कार्यक्रम रद्द कर दिए गए है.


किसानों के लिए मुख्यमंत्री ने किया बड़ा एलान

15 लाख किसानों को मिलेगा फायदा


गणतंत्र दिवस के मौके पर संबोघित करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसानों के लिए बड़ी सौगात दी है. सीएम ने किसानों का सिंचाई कर माफ करने का एलान किया है. 15 सालों से लंबित सिंचाई कर की बकाया राशि को मिलाकर अक्टूबर 2018 तक सिंचाई कर की 207 करोड़ रूपए की बकाया राशि भी सरकार माफ करेगी. सरकार के इस फैसले से 15 लाख किसानों को राहत मिलेगी. मुख्यमंत्री ने रवि फसलों के लिए बंद पड़ी सिंचाई सेवाओं को फिर से शुरू करने का निर्णय लिया है. वनांचल में रहने वाले आदिवासियों के लिए सौगात देते हुए मुख्यमंत्री ने तेंदुपत्ता को 2500 रुपए मानक प्रति बोरा से बढ़ाकर 4 हजार रुपए मानक प्रति बोरा करने का निर्णय लिया है. कांग्रेस ने वादा किया था कि सत्ता में आने पर वह किसानों की मदद करने और समग्र कृषि स्थिति में सुधार लाने के लिए कदम उठाएंगे। इससे पहले बघेल सरकार ने कृषि संकट को कम करने के उद्देश्य से दो बड़े कदमों की घोषणा की थी। इसके बाद दूसरा बड़ा फैसला सरकार ने यह लिया कि वह उपयोग न की गई जमीन को किसानों को लौटा देंगे।


इससे पहले कांग्रेस सरकार ने पिछली सरकार की संचार क्रांति योजना (स्काई) को बंद करने के बाद बचे हुए 6 लाख मोबाइल फोन केंद्र सरकार को वापस करने का निर्णय लिया था। करीब 1500 करोड़ रुपए की इस योजना के तहत प्रदेश की 50.15 लाख महिलाओं-युवतियों को मोबाइल देने थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अधिकारियों से इसका परीक्षण करने को कहा है। इस योजना के तहत में चुनावों से पहले तक 29 लाख से अधिक मोबाइल बांटे गए। लेकिन 6 लाख मोबाइल फोन अभी वेयर हाउस में पड़े हुए हैं।


शराबबंदी पर बोले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शराबबंदी पर कहा कि इसके लिए एक समिति बनाई गई थी. इसकी अनुशंसा का अध्ययन किया. इसकी अनुशंसा रद्द करने के साथ ही दो नई समितियों का गठन किया जाएगा. ये समितियां इस बात का भी अध्ययन करेंगी कि जिन राज्यों में शराबबंदी की गई वहां विफल कैसे हुई है. इन बातों का अध्ययन करने के बाद ही फैसला लिया जाएगा. साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद वीर नारायण सिंह की जन्म भूमि सोनाखान को खनन के नाम पर नष्ट करना भी जन भावनाओं के खिलाफ है. इसलिए इसकी समीक्षा का निर्णय लिया गया है.