breaking news New

बंगाल पर सियासी घमासान जारी: सामना में शिवसेना ने BJP पर साधा निशाना, ममता को दी नसीहत

बंगाल पर सियासी घमासान जारी: सामना में शिवसेना ने BJP पर साधा निशाना, ममता को दी नसीहत

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में मचे राजनीतिक घमासान को लेकर शिवसेना ने सामना अखबार के जरिए केंद्र सरकार पर हमला बोला है. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर ममता बनर्जी के सामने आयोजित कार्यक्रम में 'जय श्री राम' के नारे लगाने को उकसाने वाली कार्रवाई बताया है. अखबार में कहा गया है कि केंद्र सरकार की मदद से बीजेपी बंगाल में हिंसा और आतंक भड़काने का काम कर रही है. शिवसेना ने ममता को भी नसीहत दी गई है. सामना में लिखा है कि बीजेपी ने ममता दीदी का 'वीक पॉइंट' पकड़ लिया है. प्रधानमंत्री के मौजूदगी में ममता को 'जय श्री राम'के नारे देकर उकसाया गया, अगर ममता बिना चिढ़े 'जय श्री राम' कहती तो दांव पलट जाता. बंगाल की राजनीति के जरिए शिवनेना ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए सामना में लिखा, ''स्वतंत्रा की लड़ाई में बंगाल, पंजाब और महाराष्ट्र का नेतृत्व सबसे आगे था. उसी तरह आज भी तीनों राज्य स्वाभिमान की लड़ाई में केंद्र सरकार से संघर्ष में आगे है. पंजाब के किसान दिल्ली के सीमा पर डटे है. पश्चिम बंगाल में घमासान शुरू है तो वही महाराष्ट्र पर हर रोज हमले किए जा रहे हैं. जो महाराष्ट्र में 2014 के लोकसभा चुनाव में हुआ वही आज बंगाल में शुरू है. जिनके खिलाफ़ लड़ना है उन्हीं के लोगों को फोड़ कर खुद की फौज बनाई जा रही है. जिस तरह महाराष्ट्र में कांग्रेस -एनसीपी के लोगों को फोड़ा वही पैतरा आज बंगाल में तृणमूल के लोगों के साथ इस्तमाल किया जा रहा है.'' शिवसेना की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नसीहत शिवसेना ने सामना के जरिए ममता बनर्जी को भी नसीहत दी गई है. सामना में लिखा है, ''बीजेपी ने ममता दीदी का 'वीक पॉइंट' पकड़ लिया है. प्रधानमंत्री के मौजूदगी में ममता को 'जय श्री राम'के नारे देकर उकसाया गया. अगर ममता बिना चिड़े सुर में सुर मिलाकर 'जय श्री राम' कहती तो दाव पलट जाता. लेकिन हर कोई अपने 'वोट बैंक' बचाने में लगा है. इसीलिए सेक्युलरवाद और मुसलमानों का खुश करने से हिन्दू नाराज है. ऐसे में हिंदुत्ववाद के मुद्दे पर बीजेपी हिंसा भड़काने का काम कर रही है.'' सामना में लिखा, "इसीलिए ममता के मुख्यमंत्री होने के बावजूद दुर्गा पूजा विसर्जन पर बीजेपी का झूठा प्रचार सफल रहा और लोकसभा में बीजेपी ने 18 सीटें जीतीं. ये ममता दीदी के लिए चिंता का विषय है. ऐसे में गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय अध्यक्ष जे. पी. नड्डा से लेकर टैगोर जैसी दाढ़ी बढ़कर पीएम मोदी भी बंगाल पहुच रहे हैं. किसी भी तरह ममता बैनर्जी को हरा कर बीजेपी का झंडा बंगाल में लहराने की कोशिशें शुरू है. लेकिन वे याद रखे कि हिंदुस्थान का लोकतंत्र 'ट्रम्प छाप' नही है.''

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में मचे राजनीतिक घमासान को लेकर शिवसेना ने सामना अखबार के जरिए केंद्र सरकार पर हमला बोला है. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर ममता बनर्जी के सामने आयोजित कार्यक्रम में 'जय श्री राम' के नारे लगाने को उकसाने वाली कार्रवाई बताया है. अखबार में कहा गया है कि केंद्र सरकार की मदद से बीजेपी बंगाल में हिंसा और आतंक भड़काने का काम कर रही है.


शिवसेना ने ममता को भी नसीहत दी गई है. सामना में लिखा है कि बीजेपी ने ममता दीदी का 'वीक पॉइंट' पकड़ लिया है. प्रधानमंत्री के मौजूदगी में ममता को 'जय श्री राम'के नारे देकर उकसाया गया, अगर ममता बिना चिढ़े 'जय श्री राम' कहती तो दांव पलट जाता.


बंगाल की राजनीति के जरिए शिवनेना ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए सामना में लिखा, ''स्वतंत्रा की लड़ाई में बंगाल, पंजाब और महाराष्ट्र का नेतृत्व सबसे आगे था. उसी तरह आज भी तीनों राज्य स्वाभिमान की लड़ाई में केंद्र सरकार से संघर्ष में आगे है. पंजाब के किसान दिल्ली के सीमा पर डटे है. पश्चिम बंगाल में घमासान शुरू है तो वही महाराष्ट्र पर हर रोज हमले किए जा रहे हैं. जो महाराष्ट्र में 2014 के लोकसभा चुनाव में हुआ वही आज बंगाल में शुरू है. जिनके खिलाफ़ लड़ना है उन्हीं के लोगों को फोड़ कर खुद की फौज बनाई जा रही है. जिस तरह महाराष्ट्र में कांग्रेस -एनसीपी के लोगों को फोड़ा वही पैतरा आज बंगाल में तृणमूल के लोगों के साथ इस्तमाल किया जा रहा है.''


शिवसेना की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नसीहत
शिवसेना ने सामना के जरिए ममता बनर्जी को भी नसीहत दी गई है. सामना में लिखा है, ''बीजेपी ने ममता दीदी का 'वीक पॉइंट' पकड़ लिया है. प्रधानमंत्री के मौजूदगी में ममता को 'जय श्री राम'के नारे देकर उकसाया गया. अगर ममता बिना चिड़े सुर में सुर मिलाकर 'जय श्री राम' कहती तो दाव पलट जाता. लेकिन हर कोई अपने 'वोट बैंक' बचाने में लगा है. इसीलिए सेक्युलरवाद और मुसलमानों का खुश करने से हिन्दू नाराज है. ऐसे में हिंदुत्ववाद के मुद्दे पर बीजेपी हिंसा भड़काने का काम कर रही है.''


सामना में लिखा, "इसीलिए ममता के मुख्यमंत्री होने के बावजूद दुर्गा पूजा विसर्जन पर बीजेपी का झूठा प्रचार सफल रहा और लोकसभा में बीजेपी ने 18 सीटें जीतीं. ये ममता दीदी के लिए चिंता का विषय है. ऐसे में गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय अध्यक्ष जे. पी. नड्डा से लेकर टैगोर जैसी दाढ़ी बढ़कर पीएम मोदी भी बंगाल पहुच रहे हैं. किसी भी तरह ममता बैनर्जी को हरा कर बीजेपी का झंडा बंगाल में लहराने की कोशिशें शुरू है. लेकिन वे याद रखे कि हिंदुस्थान का लोकतंत्र 'ट्रम्प छाप' नही है.''


Latest Videos