breaking news New

Saradha Scam में बढ़ सकती हैं ममता की मुश्किलें, CBI ने SC में दायर की अवमानना याचिका

Saradha Scam में बढ़ सकती हैं ममता की मुश्किलें, CBI ने SC में दायर की अवमानना याचिका

नई दिल्ली: शारदा चिटफंड घोटाला (Saradha Chit Fund Scam) एक बार फिर पश्चिम बंगाल में राजनीतिक पारा बढ़ा सकता है. शारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई (CBI) ने सुप्रीम कोर्ट में एक अवमानना याचिका दायर की है, इसमें सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा है कि पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री राहत कोष से तारा टीवी के कर्मचारियों को नियमित रूप से 23 महीने तक भुगतान किया गया. तारा टीवी शारदा समूह के हस्से के रूप में जांच के दायरे में था.

कुल 6.21 करोड़ रुपये का भुगतान
सीबीआई  ने कहा कि सीएम राहत कोष से नियमित रूप से राशि का भुगतान किया गया. प्रति माह 27 लाख रुपये - मई 2013 से अप्रैल 2015 के बीच. आवेदन में कहा गया, 'ये राशि कथित तौर पर मीडिया कंपनी के कर्मचारियों के वेतन भुगतान के लिए दी गई, जो जांच के तहत शारदा ग्रुप ऑफ कंपनीज का हिस्सा थी.' पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री राहत कोष से तारा टीवी कर्मचारी कल्याण संघ को कुल 6.21 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया. सीबीआई ने कहा है कि एक निजी मीडिया कंपनी को भुगतान किए जाने की जांच के लिए 16 अक्टूबर, 2018 को एक पत्र मुख्य सचिव, पश्चिम बंगाल को लिखा गया लेकिन कई प्रयासों के बावजूद राज्य सरकार ने अधूरे उत्तर दिए.

पुलिस ने सबूत मिटाए
पूर्व कोलकाता कमिश्नर राजीव कुमार से हिरासत में पूछताछ की मांग करते हुए सीबीआई ने कहा कि जांच से यह भी पता चला है कि पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ त्रिणमूल और शारदा समूह के साथ मिलकर बिधाननगर पुलिस ने राजीव कुमार के कहने पर सबूत छुपाए. प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गवाह के रूप में घोष से पूछताछ अक्टूबर 2013 में हुई थी, जिसमें पता चला कि राजीव कुमार गिरफ्तार अभियुक्तों, सुदीप्त सेन, देबयानी मुखर्जी और अन्य गवाहों की पूछताछ के दौरान ईडी अधिकारियों के संपर्क में थे. ये पूछताछ सितंबर से नवंबर 2013 के दौरान हुई थी. 'अधिकारियों द्वारा यह सुनिश्चित किया गया था कि इन आरोपी व्यक्तियों या गवाहों द्वारा दिए गए सबूत रिकॉर्ड में नहीं लिए जाने चाहिए, क्योंकि जांच का एक हिस्सा प्रभावशाली व्यक्तियों को बचाने के उद्देश्य से था.'


SC ने 2014 में सीबीआई को जांच सौंपी 
सीबीआई ने शारदा समूह के कर्मचारी सफीकुर रहमान से पूछताछ का भी हवाला दिया और  कहा, 'यह कहा जाता है कि उक्त कथन (रहमान द्वारा) के अनुसार, जब मुख्यमंत्री ने विधायक सीट के लिए चुनाव लड़ा, तो सुदीप्त सेन को भवानीपुर, कोलकाता में सभी पूजाओं के लिए पैसे देने के लिए मजबूर होना पड़ा. रहमान ने आगे कहा कि 'जंगलमहल' परियोजना को मुख्यमंत्री ने राइटर्स बिल्डिंग, कोलकाता में आयोजित एक समारोह में हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. 2013 में, बिधाननगर पुलिस आयुक्त के रूप में कुमार के कार्यकाल के दौरान, घोटाले का खुलासा किया गया था. कुमार इस घोटाले की जांच के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित एसआईटी का हिस्सा थे. इससे पहले शीर्ष अदालत ने 2014 में सीबीआई को जांच सौंपी थी. 

Latest Videos