breaking news New

दिल्ली के वायु प्रदूषण को केंद्र और दिल्ली सरकार गंभीरता से ले - सुप्रीम कोर्ट

 दिल्ली के वायु प्रदूषण को केंद्र और दिल्ली सरकार गंभीरता से ले - सुप्रीम कोर्ट

दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दिल्ली में प्रदूषण पर तीखी टिप्पणी की। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली हर साल प्रदूषण की आग में झुलस रही है। राज्य सरकार और दिल्ली सरकार को प्रदूषण के बारे में कुछ करना चाहिए। सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली में हर साल दम घुट रहा है, लेकिन हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं। ऐसा हर साल 10-15 दिनों के लिए होने लगा है। किसी भी सभ्य देश में ऐसा नहीं होता है। लोगों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है।


दिल्ली-एनसीआर को गैस चैंबर में तब्दील होने पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र समेत राज्य सरकारों को फटकार लगाई और कहा कि इन हालातों में कैसे गुजारा किया जा सकता है। सोमवार को शीर्ष अदालत ने केंद्र और दिल्ली सरकार से पूछा कि आप हवा को बेहतर बनाने के लिए क्या कर रहे हैं। इसके अलावा, अदालत ने हरियाणा और पंजाब सरकारों से यह भी पूछा कि आप पराली जलाने से होने वाली प्रदूषण को कम करने के लिए क्या कर रहे हैं।


अदालत ने कहा, इस तरह नहीं रह सकते। केंद्र सरकार, राज्य सरकार को कुछ करना चाहिए। संकट सिमा से ऊपर जा रही है। ऐसे नहीं चल सकता। शहर का कोई भी कमरा, कोई भी घर सुरक्षित नहीं है। हम इस प्रदूषण के कारण जीवन के बहुमूल्य समय खो रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आधे घंटे में कोई भी विशेषज्ञ कोर्ट आ सकता है ? जिनसे हम सुझाव मांग सकते हैं। हम कृत्रिम बारिश आदि के बारे में जानकारी मांगेंगे। लोग हर दिन मर रहे हैं, वे मरते रहेंगे, सभ्य देश में ऐसा नहीं होता है।