breaking news New

Chhattisgarh Urban Body Election Result 2019 : दिग्गजों के क्षेत्र में कांग्रेस की सुनामी, भाजपा चारों खाने चित्त

Chhattisgarh Urban Body Election Result 2019 : दिग्गजों के क्षेत्र में कांग्रेस की सुनामी, भाजपा चारों खाने चित्त

Chhattisgarh Urban Body Election Result 2019 छत्तीसगढ़ के नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा के दिग्गज नेता अपने गृहक्षेत्र में भी पार्टी की लाज नहीं बचा पाए। कांग्रेस की सुनामी के आगे दिग्गजों के क्षेत्र में संगठन ने घुटने टेक दिए। अधिकांश नगरीय निकाय में जनता ने उन बड़े चेहरों को रिजेक्ट कर दिया है, जो पार्टी के प्रमुख पदों पर रहे हैं।

विधानसभा चुनाव की तर्ज पर ही इस बार भी जनता ने वोटिंग की है। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के विधानसभा क्षेत्र राजनांदगांव में मुकाबला बराबरी पर छूटा। राजनांदगांव नगर निगम में भाजपा 21 और कांग्रेस 22 पार्षदों को जीताने में सफल हुई। राजनांदगांव सांसद संतोष पांडेय और डॉ रमन के गृहक्षेत्र कवर्धा में भाजपा के कांग्रेस की तुलना में तीन गुना कम पार्षद जीते। कर्वा नगर पालिका में भाजपा के छह और कांग्रेस के 19 पार्षदों ने जीत दर्ज की।

बृजमोहन-मूणत के क्षेत्र में डूबी लुटिया

राजानी रायपुर में भाजपा सरकार में मंत्री रहे बृजमोहन अग्रवाल और राजेश मूणत के क्षेत्र में भी पार्टी की लुटिया डूब गई। रायपुर निगम में भाजपा के सिर्फ 29 पार्षद जीते। चौंकाने वाली बात यह रही कि बृजमोहन के करीबी सुभाष तिवारी, मूणत के करीबी प्रफुल्ल विश्वकर्मा, पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक पांडेय और जिलाध्यक्ष राजीव अग्रवाल व आरडीए के पूर्व अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव सहित तमाम दिग्गज हार गए।

चंद्राकर के क्षेत्र में एक ने बचाई इज्जत

पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर के कुस्र्द नगर पंचायत में भाजपा सिर्फ खाता खोल पाई। 15 पार्षदों में कांग्रेस के 12, दो निर्दलीय और एक भाजपा का पार्षद चुना गया है। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल के कसडोल नगर पंचायत में स्थिति थोड़ी बेहतर है। यहां भाजपा के पांच, कांग्रेस के सात और तीन निर्दलीय पार्षद है। हालांकि यहां भी भाजपा का अध्यक्ष नहीं बनेगा।

कौशिक-अमर ने बचाई लाज, लेकिन नहीं बना पाए महापौर

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल के क्षेत्र में भाजपा लाज बचाने में सफल रही। बावजूद इसके अमर के प्रभाव वाले बिलासपुर नगर निगम में भाजपा का महापौर नहीं बन पाएगा। पिछली बार यहां से भाजपा के किशोर राय महापौर थे। बिलासपुर में कांग्रेस को 35, भाजपा को 30 और 5 निर्दलीय को जीत मिली है। कौशिक के बिल्हा नगर पंचायत में मुकाबला बराबरी पर छूटा। यहां कांग्रेस और भाजपा को सात-सात और एक निर्दलीय को जीत मिली है।

केदार-गागड़ा की कमजोर हुई साख

बस्तर में पूर्व मंत्री केदार कश्यप और महेश गागड़ा की साख भी कमजोर हुई है। केदार के नारायणपुर नगर पालिका में भाजपा के पांच और कांग्रेस के दस पार्षद जीते। नगर पालिका बीजापुर में भाजपा की स्थिति और कमजोर रही। यहां भाजपा के सिर्फ तीन पार्षद ही जीत पाए, जबकि कांग्रेस के 12 पार्षदों ने जीत दर्ज करके पालिका के अध्यक्ष पद पर कब्जा कर लिया।