breaking news New

पाटलिपुत्र में अफसर की बेटी के साथ चार साथी छात्रों ने किया गैंगरेप

पाटलिपुत्र में अफसर की बेटी के साथ चार साथी छात्रों ने किया गैंगरेप

पटना. पटना में पदस्थापित एक अधिकारी की बेटी के साथ गैंगरेप की घटना हुई है। 20 वर्षीय पीड़ित ने महिला थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। पीड़ति भी राजधानी के एक प्रतिष्ठित काॅलेज की छात्रा है। एफआईआर में विपुल सिंह, मनीष सिंह, पालीगंज के अमन भूमि, छपरा के अश्विनी सिंह राजपूत काे आराेपी बनाया गया है।

देर रात एक आरोपी की गिरफ्तारी

गुरुवार देर रात पुलिस ने अमन को गिरफ्तार कर लिया। मनीष हाईकोर्ट के अधिकारी का बेटा है और वह सीएनएलयू का छात्र है। विपुल (फोटोग्राफर) बीएन काॅलेज का छात्र है। अश्विनी एक पत्रकार का भाई है। पीड़िता की मेडिकल जांच हो चुकी है और कोर्ट में उसका 164 का बयान भी हो गया है। इधर पुलिस छपरा, पालीगंज सहित कई जगहों पर फरार आरोपियों की तलाश में छापे डालती रही। थानेदार आरती जायसवाल बोले- सभी जल्द पकड़े जाएंगे।

छत से कूदकर भाग गया आरोपी
नेहरू नगर स्थित घटनास्थल पर भी पुलिस जांच के लिए गई। बुधवार को सूचना मिली कि दो आरोपी कंकड़बाग में छिपे हुए हैं। पुलिस जैसे ही पहुंची दोनों आरोपी छत से कूदकर फरार हो गए। इधर, कुछ छात्रों ने बताया कि विपुल, अमन, मनीष और अश्विनी के गैंग में दो और लड़के हैं। इनका अड्‌डा बीएन कालेज का हॉस्टल ही है। सभी दिन भर वहीं पड़े रहते हैं।

वीडियो वायरल करने की धमकी देकर की ज्यादती

पीड़ित ने पुलिस को बताया- विपुल उसे नौ दिसंबर को बीएन काॅलेज के गेट पर मिला। वहीं विपुल ने उसे वीडियो वायरल करने की धमकी दी और अपनी बाइक पर बिठाकर उसे नेहरू नगर स्थित अपने दोस्त मनीष के कमरे पर ले गया। कमरे पर जाने के बाद मैं अपनी सीनियर दोस्त को फोन कर बता ही रही थी कि विपुल ने मेरा फोन छीनकर ऑफ कर दिया। इसके बाद चारों ने बारी-बारी से मेरा रेप किया और मुझे कमरे में अकेला छोड़कर वहां से फरार हो गए। विपुल ने अक्टूबर महीने में भी मेरे साथ जबरदस्ती संबंध बनाया था और उसका वीडियो भी बना लिया था। विपुल इसी वीडियो के वायरल करने की धमकी देता रहता था।

किसी को बताने पर दी जान से मारने की धमकी
पीड़ित के अनुसार- घटना के बाद विपुल और मनीष ने चाकू दिखाकर मुझे धमकाया कि अगर तुम यह बात किसी को बताई तो तुम्हारे भाई की हत्या कर देंगे। इसके बाद मैं डर गई और घटना की जानकारी घर में नहीं दी। लेकिन मैंने अपनी सीनियर कोे अपने साथ हुई इस दरिंदगी के बारे में बताया। आखिरकार मेरी सीनियर ने पापा को सारी घटना की जानकारी दे दी। इसके बाद पिता ने फोन कर सिटी एसपी को घटना की जानकारी दी और मामला सामने आया।